« Older Entries Newer Entries » Subscribe to Latest Posts

22 Jun 2011

महोबत

Posted by sapana. 7 Comments

अब नहीं है तेरा ईन्तेज़ार
अब नहीं है यह दिल बेकरार
क्या कही धडकन बंध हो गई
अब नहीं है सांसोकी  रफतार


दिल जब बसमे नहीं तो कोई क्या करे?
जब तुमसे महोबत है तो कोई क्या करे?
पता है कभी भी  न होगा अपना मिलन
फिर भी दिल तुम्हे  मांगे तो कोई क्या करे?

भीनी भीनी बारिश सी तेरी याद
खुश्बुकी तरह महेकती तेरी याद
जैसे कोई जन्नतकी गलीयोसे गुज़्ररे
पंछीकी तरह चहेकती तेरी याद.

मधूर मधूर है अपने रिश्ते
दिलको बहेलाते है यह रिश्ते
दिलको सेहलाते है यह रिश्ते
मीठे मीठे मुलायमसे रिश्ते.

तुं नज़रके सामने नहीं फिरभी
तेरी तस्वीर दिखाई देती है
अब नही मौतका डर मुज़ेह
मौतमे जिंदगी दिखाई देती है

तुं नही है तो क्या है
तेरी याद तो साथ है
एक यह चीज़ है जीसे
कोई नही छीन सकता है.

सपना विजापुरा
६-२१-२०११

19 Apr 2011

छोड दिया

Posted by sapana. 12 Comments


तुजेह   चाहके चाहना छोड दिया
किसीको अपना मानना छोड दिया

अब क्यां लेना  देना हैं सांसोसे
जीते जी  मैने भी जीना छोड दिया


तेरी चहेक जो गई जिंदगीसे
परिंदोने भी गुनगुना छोड दिया

तुं जहां है बस खुश ही होगा,
तेरे बारेमे पूछना छोड दिया

जबसे मिला है जामे कवसर
हमने  मयखाना छोड दिया

मरज़ीके मुताबिक क्यां होगा
सपनाने दिलको डाटना छोड दिया..

सपना विजापुरा
४-१८-११

28 Mar 2011

सिराते मुस्तकीम

Posted by sapana. 6 Comments



ऐ खुदा तु है मेरी रगे-जां तक
बात मेरी पहोंची है आसमां तक

क्या करु मीन्नते गुज़ारिशे मै
जान लेता है  मेरे दिलकी बात तक


मेरे खुदा तेरी शानका क्या केहना?
ज़मीन तेरी हकुमत तेरी आसमान तक

तु ही बता क्या करु तुज़ेह रीझानेको
फरीश्तोको केह दो ले जाये जन्नत तक

नहीं टाल सकती तेरी कोई बात ऐ खुदा
ईश्क है मुज़ेह तुमसे इन्तेहा तक

गर्दिशोमे है तु ही पार लगाना इसे
तु ही पतवार है मेरी कश्तीका किनारे तक

सब भले छोडके जाये मुज़ेह तन्हा
तु ना छोडेगा मुज़ेह भरोसा है गले तक

नहि पता है मुज़ेह भला क्या बुरा क्या
पकड सपनाकी उंगली सिराते मुस्तकीम तक

सपना विजापुरा
सिराते मुस्तकीम= मंज़ीले मक्सुद= सीधा रस्ता

18 Mar 2011

दर्द

Posted by sapana. 6 Comments


कयामतमे होंगी मुलाकात हमारी
खूब गीले शीकवे करुंगी अल्लाहसे
तब पूछुंगी तडपना मेरी किस्मत थी
या फिर तडपाना उनकी फितरत?

क्यों तेरी तस्वीर सामनेसे हटती नहीं
तेरे   बीना अब तो जिंदगी गुज़रती नहीं
माना तुज़े चाहके बडा गुनाह किया है
फिरभी तेरी महोबत दिलसे मिटती नहीं


दिलमे एक दर्द सा रहेता है
दिल कबसे बेकरार सा है
मिटती नही है दिलकी खलीश
यह मर्ज़ लाईलाज़ सा लगता है

जो कभी हुआ नहीं उसे भूला ना पाई
जो कभी होना नहीं उसकी तमन्ना है
तुं हकीकत है कोई ‘सपना’ नहीं है
फिरभी खूली आंखोसे कभी देख ना पाई.

सपना विजापुरा
३-१७-२०११

4 Mar 2011

दोस्त

Posted by sapana. 7 Comments

दोस्त भी दुश्मन निकले

प्यारमे  मतलब  निकले

जिदंगीका कयां हो यकीं

सपने भी बनझर निकले.


सपना विजापुरा

29 Nov 2010

आज़ कविता नहीं बनेगी!!

Posted by sapana. 9 Comments

बाज़ुके कमरेमे  पिताज़ीकी खांसनेकी आवाज़

उनके बाज़ुमें दमेकी बिमारीसे हांफती मां

आज़ कविता नहीं बनेगी

आधा पेट भरके कामपे गया हुआ पति

आधा पेट भरी हुई कलेज़ेके टूकडेको

सुकी छातीसे दूध पीलानेकी कोशीषमे वोह

आज़ कविता नहीं बनेगी.

चुल्हेकी राखको फूकके जलानेकी कोशीषमे

धूएके बहानेसे आंखे पोंछती  वोह..

आज़ कविता नहीं बनेगी

पाठशालासे फटे गंदे कपडेमे लपेटी

सुखी आंखे सुखा पेट..

मां ने ढका हुआ फिर भी

ज़ीसके उपर मख्खीया घुमराती है

ऐसा खाना खाने चली..

आज़ कविता नही बनेगी..

कविता तो होती है सपनोकी दुनिया

यहां कोइ सपना पूरा होनेवाला नही

आज़  कोइ कविता नही बनेगी..

सपना विजापुरा

24 Nov 2010

महोबत

Posted by sapana. 7 Comments

तेरी यादसे दूर नहीं रहे सकते
ऐसी बेवफाई नही कर सकते
चाहो तो आज़मा लो हमे तूम
तूमसे बिछडके जी नहीं सकते

मनो मिट्टीके नीचे  जाके सो गये अब
चहेकते  थे  बोलते बंध हो गये अब
अब जैसे मुहमे जबान ही नही है मानो
ऐसे खामोश है वोह की रो गये अब


तेरा और मेरा कॉई रिश्ता नहीं
फिरभी दिल तुज़े भूलता नहीं
दिल समजानेसे समज़ता नहीं
ज़हेनकी बात पगला  मानता नहीं


कितना भी कर लो यह महोबत जीतनेवाली नहीं
और यह दुनिया है जो कभी हारनेवाली  नहीं
मौतकी मंज़िल तक पहोंचाके छोडेंगी यह दुनिया
पर यह महोबत है जो कभी घटनेवाली नहीं

सपना विजापुरा

13 Oct 2010

सपने

Posted by sapana. 6 Comments

कभी तुजे इतना करीब पाती हुं
के हाथ बढाके अभी छू लुंगी तुजे
अब नहीं तन्हाई तडपाती मुजे
अब तेरे बगैर ही जी लुंगी मैं


तुमने ऐसे रंग भरे है जीवनमे
मुस्कुरुहाटसी रहेती है चहेरेपे
पतझडमे भी फूल खील गये है
पंछी चहेकने लगे है चमनमे

तेरी यादको न दुनियाका डर
तेरी यादको न मज्ञहबका डर
वो तो बेधडक चली आती है
एक तुं है जो कभी नही आता

छोटे छोटे सपने है मेरे
नन्हे मुन्हे सपने है मेरे
कही निन्द्से न जाग जाउ
बहोत ही नाज्ञुकसे सपने है मेरे

सपना विजापुरा

18 Sep 2010

उदासी

Posted by sapana. 7 Comments

जीस्मकी तरह यह दिल भी गल जाता
यह् गमका बोज़ तो दिलसे टल जाता
फिर न याद तेर आती इस तरह दिलमे,
फिर यह दिल ऐसे न मचल जाता

इश्कमे दुनिया छोड देना आसान है
दुनियामे इश्कमे जलना आसान नही
तुम तो चल बसी दुनिया छोडके ज़न्नतमे
ज़िन्दा रेहके जलते रेहना आसान नही.


रोती रही यह आंखे,
तरसती रही यह आंखे,
पता था तुजे न देखेंगी,
फिर भी ढुंढती रही आंखे.

दिल युं उदास है,
मिलनेकी आस है,
अटकी हुई सांस है,
मौतकी प्यास है.

तु औरोकी बाहोमे श्यामे गुज़ारे,
मेरे नसीबमे रंज़ोगमके सिवा कुछ नही
तेरी ज़िंदगी औरोकी अमानत,
मेरे नसीबमे मौतके सिवा कुछ नही.

सपना विजापुरा

15 Aug 2010

ए वतन

Posted by sapana. 7 Comments

ए वतन ए वतन हमको तेरी कसम,
तेरी राहोमे जां तक लूटा जायेंगे.

फूल क्या चीज है तेरे कदमोपे हम
भेंट अपने सरोकी  चढा जायेंगे

कोई हिन्दु  तो मुस्लिम है कोई यहा
प्यारसे हम गले मिलते जायेंगे


कोई जुल्मी ना छूए कभी तुजको
भेंट उनके सरोकी चढा जायेंगे

हो गये दूर हम तुजसे तो क्या
तेरी तस्वीर दिलमे छूपा जायेंगे

होसले कोई ना तोड पाये कभी
हम कदम से कदम को बढा जायेंगे

एक  सपना ही देखुं मै रातदिन
हम वतनके लिये जां लुटा जायेगे…ए वतन ए वतन

सपना विजापुरा


Warning: Invalid argument supplied for foreach() in /homepages/1/d487227804/htdocs/hindi/wp-includes/script-loader.php on line 2678